◀ Back खाप समाचार

गुरुग्राम गांव में पंचायत का फैसला, गोत्र छोड़ शादी करने में बंदिश नहीं

24 अक्टूबर 2017 (गुरुग्राम) : गुरुग्राम गांव में रविवार को ‘गुरुग्राम अठारह’ की पंचायत का आयोजन चौधरी जगपाल कटारिया जेलदार की अध्यक्षता में हुआ, जिसमें सर्वसम्मति से कई अहम फैसले लिए गए। इस बात पर भी सहमति बनी कि पहले जो अठारह गांवों में लोग आपस में शादी नहीं करते थे, उनमें अब केवल गोत्र को छोड़कर शादी करने में कोई बंदिश नहीं होगी। इसके अलावा शादी में डीजे ना बजाने, दहेज प्रथा को बंद करने, शादियों में आतिशबाजी, शराब का प्रयोग बंद करने, शादी में केवल एक बार ही भोज की व्यवस्था किए जाने व रात के बजाय दिन में शादी करने जैसे प्रस्ताव पर सहमति बनी। कन्या भ्रूण हत्या को रोकने, बेटियों को पढ़ाने, बाल विवाह पर रोक, शिक्षा को बढ़ावा दिए जाने और अन्य कुरीतियों को बंद करने पर भी लोगों ने एकजुटता दिखाई। उपस्थित बुजुर्गों ने कहा कि यह फैसला सभी गांवों के प्रतिनिधियों के विचार सुनकर तथा भविष्य को देखते हुए आपसी सहमति से लिया गया। पंचायत में धर्मवीर कटारिया, अटल कटारिया, रमेश दहिया, योगेंद्र सरपंच, मुकेश शर्मा, श्रीनिवास सरपंच, नरेश सहरावत, चौ. रघवीर पहलवान, चौ. भीम सिंह सिंह सहित कई लोग मौजूद रहे।

October 24, 2017 को प्रकाशित