◀ Back खाप पंचायत समाचार
Border

गांव भैंसवाल कलां में पांच हत्याओं के बाद से तनावपूर्ण माहौल बना हुआ है। अब तो पुलिस भी इस मामले के शांतिपूर्ण निबटारे के लिए आपसी बातचीत को महत्वपूर्ण मानने लगी है। गोहाना के डीएसपी ने भी मामले में खाप पंचायतों को आगे आने की अपील की। इससे बेगुनाह लोगों का खून बहने से रोका जा सके।
विदित रहे कि 8 मई की शाम को गाव भैंसवाल कला के मिठान पाने के सरपंच मुकेश मलिक को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया गया था। उस समय वह अपने भाई कुलदीप व परिवार से ही रविंद्र के साथ मोटरसाइकिल पर गाव कटवाल से लाठ की ओर जा रहा था। इसी दिन सरपंच के भाई मंजीत व परिवार से ही सुखबीर पर भी गाव भैंसवाल कला में आवली रोड पर गोलिया बरसाई थी। इसी बीच छोटी दीपावली 25 अक्टूबर की रात को गाव के रामकिशन (60) को गोली मारी गई थी। इसमें उसकी जान बच गई थी। 28 अक्टूबर को रामकिशन की पुत्रवधू सुशीला उर्फ बबली पत्**नी अमरजीत व पास ही के घर में जयकरण व उसके बेटे संदीप (28) की हत्या कर दी गई थी। वहीं 12 नवंबर को पूर्व सरपंच मुकेश के चाचा बलराज की हत्या कर दी गई। इस दौरान फरीदाबाद का विवेक भी घायल हुआ था। सभी बलराज को इस मामले में बेगुनाह मान रहे हैं। अब लोग भी मानने लगे कि मामले मे बेगुनाह लोगों का खून बहने लगा है। इसे रोका जाना चाहिए। लगातार बह रहे खून से गांव में दहशत का माहौल है। इस संबंध में डीएसपी तुलाराम ने बताया कि पुलिस गांव में शांति व्यवस्था बनाए रखने के कृतसकंल्प है। उन्होंने बताया कि गांव में शांति के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। साथ उन्होंने खाप पंचायतों से भी अपील की कि वे इस मामले में आगे आए। उन्होंने कहा कि खाप पंचायत इस मामले में बड़ी महत्ता निभा सकती है। उनका कहना था कि पुलिस गांव में सुरक्षा दे सकती है, और गांव में नाका लगा सकती है। उसके बावजूद दोनों गुटों का मनमुटाव दूर करने से ही इस रंजिश को खत्म किया जा सकता है। इसलिए खापों विशेषकर मलिक खाप को इस मामले में आगे आकर प्रयास करने चाहिए।

June 27, 2012 को प्रकाशित
Border